सुनो दोस्तों

Just another Jagranjunction Blogs weblog

46 Posts

3 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 25396 postid : 1334319

किसान बन्धु

Posted On: 10 Jun, 2017 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

किसान बन्धु
********
“जय जवान जय किसान”
इस ख़याल में
माना, तुम्हारा आधा हिस्सा है |
पर
हकीकत में
मेरे सहोदर ! तुम कहाँ हो ?
नहीं नहीं, तुम कुछ भी हो सकते हो
पर किसान नहीं |
तुम तो
बाम्हन हो
ठाकुर हो
पाटीदार हो |
यही सच्चाई है, सारे चुनाव इस बात के गवाह है |
इधर
निजी तौर पर तुम्हें देने के लिए
मुआवजे हैं, तमगे हैं, नसीहते हैं,
तुम्हारे पास क्या है ?
“खाप” !!!!!
ऑनर किलिंग से बाहर निकलो,
रास्ता खुले में है |
मारपीट आगजनी में
तुम अपने किस वरदान की परीक्षा लेते हो ?|
माना,
तुम ज़मीन से अपनी बात मनवा लेते हो,
अपनी मांग और इशारे पर
अनाज, फल, सब्जियां
ज़मीन से हाजिर करवा लेते हो |
इसलिए कि
ज़मीन तुम्हारे पसीने से मोहब्बत करती है |
पर किसान बन्धु,
व्यवस्था ज़मीन नहीं होती |

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran